सरकारी स्कूल और ऑनलाइन पढाई

June 13, 2020

कहते है, बच्चों की पहली पाठशाला घर ही होता है, पिछले तीन महीनों से, कोरोना वायरस के चलते देश भर के सभी स्कूलों को बंद रखा गया है, और अनुमान यही लगाया जा रहा है, कि आगे दो महीने और इन स्कूलों को बंद ही रखा जाएगा|  ऐसे में बच्चों ने अपने पेरेंट्स और शिक्षक की मदद से, घर को ही अपनी पाठशाला बना लिया है | आइये बात करते है सरकारी स्कूल में पढ़ रहे बच्चों की घर में चल रही ऑनलाइन क्लास की और जानते हैं कैसे सरकारी स्कूल के शिक्षकों की मदद से बच्चें ''घर की पाठशाला में क्या-क्या सीख पा रहे है और शिक्षकों का इसमें कितना योगदान रहा है |  

हमने सरकारी स्कूल की टीचर्स से बात की जिसमे उन्होंने हमें बताया कि लॉकडाउन होने के 3 हफ्ते बाद से ही उन्होंने अपनी-अपनी क्लास के सभी बच्चों को ऑनलाइन पढ़ाना शुरू कर दिया था | टीचर्स ने हमें बताया कि बच्चों को ऑनलाइन क्लास देने के लिए सबसे पहले उन्होंने सभी बच्चों के ब्रॉडकास्ट ग्रुप बनाये और उसके बाद उन्होंने syllabus के अनुसार बच्चों को पढ़ाना शुरू किया | वे बच्चों को स्कूल के syllabus में कुछ डिजिटिल वीडियो, और ऑनलाइन वर्कशीट के माध्यम से बच्चों को पढ़ाते है | और जरूरत पढ़ने पर वे बच्चों को समझाने के लिए सिंपल भाषा में अपने हाथों से वर्कशीट बना कर भी भेजती है | फिर भी अगर किसी बच्चे को समझ नहीं आये तो वे उसे ऑडियो कॉल पर बात करके समझाते है और अगर किसी बच्चें के बड़े भाई बहन है तब वे उससे बात करके उसे बच्चें की मदद  करने  को कहती है | टीचर्स बताते है कि समय से सभी बच्चों को ऑनलाइन काम देना उनके डेली रूटीन का पार्ट बन गया है | 

अपने खुद के अनुभव को साझा करते हुए सरकारी स्कूल की मैडम मोनिका बताती है कि मैं सरकारी स्कूल की सबसे छोटी क्लास 1st को व्हाट्सप्प ग्रुप के द्वारा पढ़ा रही हूँ क्योंकि वे बच्चें अभी सिर्फ पांच, छह वर्ष के ही है । शुरुआत में उन्हें कुछ समझ नही आता था जिस वजह  से कोई प्रतिक्रिया नहीं आती थी । लेकिन फिर मैंने बच्चों के लिए सिंपल और सरल वर्कशीट अपने हाथों से बनाकर भेजना शुरू की और रेगुलर उनके पेरेंट्स से बात की और उनसे  बोला कि आप बच्चों को पढ़ाने में मेरी मदद करे, उसके बाद धीरे-धीरे बच्चों का रेस्पॉन्स आना शुरू हो गया ।आज बच्चे अच्छे से कार्य करते है और यह पेरेंट्स के सपोर्ट के कारण संभव हुआ है |

जब हमने ऑनलाइन क्लास में आ रहे Challenges के बारे में बात की तब लगभग सभी टीचर्स ने मिलते जुलते ही Challenges साझा किये हमारे साथ | जैसे- कुछ पेरेंट्स के पास स्मार्ट फ़ोन का न होना, नेट रीचार्ज खत्म हो जाना, क्योंकि ऑनलाइन काम भेजना है तो कुछ बच्चे दिए हुए समय के अनुसार काम नहीं भेज पाते है और फिर बाद में सारा काम एक साथ भेजते है | इन सभी challenges में 5th क्लास की पूजा मैडम ने अपना एक सबसे बड़ा चैलेंज साझा किया हमारे साथ, उन्होंने बताया कि उनकी क्लास के बच्चे बड़े है और होम-वर्क और क्लास वर्क भी समय से करके भेजते है, किंतु सप्ताह के अंत में सभी बच्चों को कुछ Quiz दी जाती है, जिसमे English, Math,EVS के कुछ लिंक दिए जाते है, बच्चों को उन लिंक को देखकर Objective question करने होते है, मेरी तरफ से सही और क्लियर इंट्रक्शन देने के बाद भी सभी बच्चें Quiz अटेंड नहीं करते कुछ ही बच्चें उसे अटेंड करते है | लेकिन अब मैंने  Quiz से एक दिन पहले बच्चों से बात करना शुरू कर दी है और उनसे समझने की कोशिश की है कि उन्हें Quiz के दौरान क्या challenges आते है तब से धीरे धीरे बच्चों की अटेंडेंस बढ़ने लगी है| 

पिछले 2 महीने से चल रही ऑनलाइन क्लास से टीचर्स की अपनी कई नयी लर्निंग भी हुयी है | बच्चों को ऑनलाइन क्लास कराने से उनकी इंट्रक्शन देने की कैपेसिटी बिल्ड हो रही है, ज्यादा से ज्यादा डिजिटल पाठ्यक्रम का इस्तेमाल करना आ रहा है, सरकारी स्कूल के प्रेम सर बताते है कि ऑनलाइन क्लास देने से हमारा धैर्य का स्तर भी बड़ा है, और जब से बच्चों की ऑनलाइन क्लास शुरू हुयी है, पेरेंट्स का इन्वॉल्वमेंट बच्चों के साथ बढ़ गया है । कई बार जब बच्चे हमसे नहीं समझ पाते है तब हम पेरेंट्स का सपोर्ट लेकर उन्हें समझाते है जिससे पेरेंट्स के साथ हमारी बॉन्डिंग और भी अच्छी हुयी है

वही सरकारी स्कूल के मनोज सर बताते है कि ये ऑनलाइन क्लास भी हमारे लिए अच्छा अनुभव है | इसे प्रॉब्लम ना समझ कर इसका सही इस्तेमाल करे जैसे हम हमेशा सोचते है कि बच्चे को यह वीडियो दिखानी चाहिए पर क्लास में संसाधन और समय ना होने की वजह से हम दिखा नहीं पाते थे | अब यही सही समय है जब हम बच्चों को टेक्नोलॉजी के माध्यम से पहेलियाँ, सामान्य ज्ञान,विज्ञान आदि में शामिल करके बच्चों के ज्ञान को बड़ा सकते है

सभी शिक्षक ऑनलाइन क्लास से बहुत खुश है और हर दिन समय से बच्चों के साथ ऑनलाइन क्लास के माध्यम से जुड़ जाते है लेकिन अब वह चाहते है कि जल्दी सब ठीक हो और स्कूल पहले की तरह खुलने लगे | 

सरकारी स्कूल में पढ़ रहे कुछ बच्चों से बात की जिसमे बच्चों ने बताया, हमारे लिए ऑनलाइन क्लास लेना बिलकुल ही नया है और हमे मजा भी आ रहा है ।इसमें,एक बच्चे साहिल ने कहा जब हमारा स्कूल खुल जाएगा उसके बाद भी अगर हम किसी कारण से कभी स्कूल नहीं जा पाएंगे तब हम फ़ोन में ऑनलाइन उस टॉपिक को खोज करके पढ़ सकेंगे | बच्चों ने बताया हमें समय से ऑनलाइन whatsapp group  में काम मिलता है और जब कोई टॉपिक हमें समझ नहीं आता है तो टीचर्स हमें वीडियो और ऑडियो कॉल के माध्यम से समझाते है | बच्चे कहते है हमारे शिक्षक हमें पढ़ाने में पूरी मदद कर रहे है और साथ ही पेरेंट्स भी घर पर हमारा सपोर्ट करते है लेकिन फिर भी हम अपने स्कूल को मिस करते है और चाहते है जल्दी से जल्दी वायरस खत्म हो और हम पहले की तरह स्वच्छ हवा में साँस लेते हुए स्कूल जा सके| 

नीता , अग्रसर

Nita Chauhan

nita@agrasar.org