सरकारी बीमा योजनाओं का महत्व और जागरूकता

April 5, 2022

कोरोना महामारी के बाद से बीमा योजनाओं की जरूरत और महत्व दोनों ही बहुत तेजी से बढ़ रहे है जिससे बीमा योजनाओं से जुड़ने वालो की सॅंख्या में भी वृद्धि हुई है। अगर बात एक आम आदमी की करे, तो प्राइवेट बीमा पालिसी का मासिक और वार्षिक प्रीमियम बहुत ज्यादा होने के कारण ,आम आदमी इससे जुड़ने एवं इसके लाभ तक पहुंचने में सक्षम नहीं है।

ऐसे में सरकार द्वारा 2015 में आरम्भ की गई देश के सबसे सस्ते वार्षिक प्रीमियम वाली 2 सरकारी बीमा योजनाए, जीवन ज्योति बीमा योजना और सुरक्षा बीमा योजना का महत्व और भी आधिक बढ़ गया है| इन दोनों सरकारी बीमा योजनाओं का वार्षिक प्रीमियम कम होने के कारण, देश में कमजोर वर्ग के लोग भी इन बीमा योजनाओं का लाभ उठा सकते है।

प्रधानमंत्री जीवन ज्योति बीमा योजना, एक जीवन बीमा योजना है, जिसका वार्षिक प्रीमियम 330 रुपये है और इसमें 2 लाख रुपये का कवर है। यह योजना किसी भी तरह की नेचुरल मृत्यु पर लागू होती है। वहीं सुरक्षा बीमा योजना एक दुर्घटना बीमा योजना है, जिसका वार्षिक प्रीमियम 12 रुपये है और इसमें 2 लाख रुपये का कवर है यह योजना किसी भी आकस्मिक दुर्घटना जिसमे व्यक्ति के शरीर के मुख्य तीन अंग -हाथ,पैर और आँख - जो कि किसी आकस्मिक दुर्घटना के दौरान अर्द्ध क्षति ग्रस्त या पूर्ण रूप से क्षतिग्रस्त हो जाने पर लागू होती है। हर वर्ष 31 मई को इन योजनाओं का प्रीमियम अपने आप से ही आपके बैंक खाते से कट जाता है और यह योजना अगले एक वर्ष तक के लिए रिन्यू हो जाती है।

फील्ड पर हम अपने अनुभव के बारे में बात करे तो, समुदाय में इस योजना के प्रति जागरूकता के दौरान हमने जाना कि, देश की सबसे सस्ती बीमा योजना होने के बावजूद भी समुदाय के अधिकतर लोगो को इन योजनाओं के बारे में कोई जानकारी नहीं है। ऐसे में अग्रसर की टीम ने समुदाय के लोंगो को इन योजनाओं के प्रति जागरूक किया तथा योजना से जुड़ने के लिया प्रेरित किया। अब तक हमारी टीम लगभग 950 लोगो को सफलता पूर्वक इन बीमा योजनाओं से जोड़ चुकी है। और अभी भी इन योजनाओं से जुड़ाव का कार्य निरंतर जारी है ।

इन योजनाओं से जुड़ाव के साथ – साथ अग्रसर इन योजनाओं के अंतर्गत आ रही अन्य समस्याओ से सम्बंधित समाधान पर भी कार्य करता है।

हाल ही में हमारे समुदाय की एक महिला जिसके पति की मृत्यु एक महीने पहले हुई थी और उनके पति अपने बचत खाते में प्रधानमंत्री जीवन ज्योति बीमा योजना से जुड़े हुए थे, ऐसे में पति की मृत्यु के बाद जब उस महिला ने बैंक से क्लैम करना चाहा तो पता चला कि उसके पति की बीमा योजना में कोई भी नॉमिनी नहीं जुड़ा हुआ था। ऐसे में क्लैम के लिए आवेदन करने के दौरान बैंक ने उस महिला को क्लैम के लिए आवेदन करने से मना कर दिया। इस स्थिति में अग्रसर की टीम ने योजना की पॉलिसी के तहत बैंक से बात करके उस महिला को क्लैम के लिए आवेदन करने में पूरा सहयोग किया और उनका सफलतापूर्वक क्लैम के लिए आवेदन कराया।

अगर इन योजनाओं के महत्त्व के बारे में बात करे तो, आज के समय में एक आम आदमी के लिए बचत कर पाना बहुत मुश्किल होता जा रहा है। अगर ऐसे में घर के इकलौते कमाने वाला व्यक्ति की आकस्मिक मृत्यु हो जाती है तो परिवार को बहुत ज्यादा आर्थिक तंगी का सामना करना पड़ जाता है। यदि मृतक इन बीमा योजनाओं से जुड़ा हुआ होता है तो सरकार के द्वारा मृतक के परिवार को योजना के तहत 2 लाख रुपये की बीमा राशि दी जाती है। ऐसे में इस राशि  से मृतक के परिवार को कुछ समय के लिए आर्थिक तंगी से उभरने में मदद मिलती है। इसलिए समुदाय के हर आम आदमी को इन बीमा योजनाओं से जुड़ना जरूरी है।

* किसी भी प्रकार की बीमा योजनाओं या बचत खाता खुलवाते समय नॉमिनी अवश्य जुड़वाये।

Ravi Singh

ravi@agrasar.org